badge
Wednesday, September 20, 2017
वो होता है न, जो तू मूड़ के न देखती थी आँखों को जाने क्यूँ नम कर देती थी, जाने क्या ज़ोर है तेरे इश्क़ का मुझपे हल्का- हल्का मुझे तंग कर देती है। वक़्त की बात है, बदलता रहता है आज मैं हूँ...
कभी दर्द सी, कभी ज़र्द सी ज़िंदगी बेनाम थी, बन गया अफसाना इक बात से पहली दफा, पा लिया है ठिकाना तेरे दिये हुए दर्द की है पनाह मेरी हँसी की वो एक वजह। इक वो नज़र, इक वो निगाह रूह में शामिल है तू इस...
वो कहते है मुकददर काम नहीं आता, झुककर हर किसी को सलाम किया नहीं जाता, रोना किस्मत की लकीरो में नहीं लिखा, चलता नहीं हर ज़गह किस्मत का सिक्का। कुछ मेहनत की दुआएँ भी छिन लाती है, जो सूकून दे जाती है, दर-दर की ठोकरें...
तेरी उदासी का असर मुझपर कुछ इस कदर छाता है, न दिल रो पाता है, न ज़ाहिर कर पाता है, दूर जाने का मतलब फासला नहीं होता, कुछ फासलों से प्यार कम नहीं होता। निगाहें भरकर इंतज़ार करना मेरा, फिर उन्ही आँखों से दीदार...

हालात

कुछ सपने झिंझोरा करते हैं, हालात ऐसे हैं जो तोड़ा करते हैं, हकीकत है या सपना समझ नहीं आता, कौन सा ज्यादा प्यारा है, पता नहीं चल पाता।   जिसका साथ जीतना चाहते हैं, उसी से लड़ते हैं, इतना रोने के बाद भी ना जाने...
0FansLike
89FollowersFollow
3,710FollowersFollow

Recent Posts