""
Wednesday, November 22, 2017
आज फिरसे वहीँ यह रात ले आई मुझे, है बस जहा मेरे दिल के लिए सजा, तेरी मुस्कुराहट के साथ फिरसे उड़ चला, इन अँधेरी राहों में फिरसे निकल पड़ा| आज एक और रात जुड़ गयी इस याद के शहर में, जिसमे फिरसे धूंडता...
वो कहते है मुकददर काम नहीं आता, झुककर हर किसी को सलाम किया नहीं जाता, रोना किस्मत की लकीरो में नहीं लिखा, चलता नहीं हर ज़गह किस्मत का सिक्का। कुछ मेहनत की दुआएँ भी छिन लाती है, जो सूकून दे जाती है, दर-दर की ठोकरें...
तेरी उदासी का असर मुझपर कुछ इस कदर छाता है, न दिल रो पाता है, न ज़ाहिर कर पाता है, दूर जाने का मतलब फासला नहीं होता, कुछ फासलों से प्यार कम नहीं होता। निगाहें भरकर इंतज़ार करना मेरा, फिर उन्ही आँखों से दीदार...
आँखों को झुकाए आज भी अपनी ज़िन्दगी को यू ही अपना लेती हूँ, कड़वाहत तो हर रिश्ते में है वो भी निभा लेती हूँ, जब दर्द का मौसम आता है तो आसुओं को छुपा लेती हूँ, वही शक्श जो कहता था ध्यान...
जब हम जिंदगी से हार जाते हैं, तब हम अपनी सारी उम्मीदें तोड़ जाते हैं, हर जगह अंधेरा दिखाई देता है, कुछ नहीं बचा हमें यह मान कर बैठ जाते हैं। वह सुबक-सुबक कर रोना मनज़ूर हो जाता है, जब हौसले का बांध टूट...
याद है वो पहली झलक जिस रोज़ तुझे देखा था, कुछ महसूस दिल को हुआ कुछ अंदर ही बस के रह गया। हुई न हिम्मत तुमसे कुछ कहने की दिन बीत गए एक लफ्ज़ कहने में, आया वो दिन जब खुसनसीबी मुझसे मिली घर कर गये...
थक जाती है जुबा मेरी जिंदगी से जब, शिकायत करने लगता हूं ऐसा नहीं है कि मैं मौत से डरता हूं भागना नहीं सिखाया तूने मुझे खुदा पर क्या दिया है जीवन जीने को यह तो बता। खत्म करने को जिंदगी कभी मन करने...
0FansLike
124FollowersFollow
3,653FollowersFollow

Recent Posts